Income Tax

आईटीआर (ITR) फाइलिंग 10 स्थितियों में अनिवार्य है।

आईटीआर फाइलिंग 10 स्थितियों में अनिवार्य है। 1.यदि आपकी कुल आय रु. 2,50,000/- से अधिक है। 2. अगर आपके पास भारत के बाहर संपत्ति है। 3. अगर बैंक खाते में 1 करोड़ रुपये से अधिक जमा (FD) हैं। 4. अगर आप विदेश यात्रा पर 2 लाख रुपए खर्च करते हैं। 5. अगर आपकी बिजली की …

आईटीआर (ITR) फाइलिंग 10 स्थितियों में अनिवार्य है। Read More »

टीडीएस (TDS) क्या है ? TDS क्यों कटता है? TDS कब और किसके द्वारा काटा जाना चाहिए?

टीडीएस (TDS) क्या है टीडीएस को इस तरह समझ सकते हैं: आपकी इनकम का कुछ भाग (प्रतिशत) आपको इनकम प्रदान करने वाली संस्था द्वारा काटा जाता है और केवल शुद्ध राशि का भुगतान करते हैं। इस प्रकार काटा गया कर टीडीएस कहा जाता है  जो संस्था इनकम का कुछ प्रतिशत काटती है उस पैसे को …

टीडीएस (TDS) क्या है ? TDS क्यों कटता है? TDS कब और किसके द्वारा काटा जाना चाहिए? Read More »

Inter corporate Tax planning on dividend income in India. Deduction in respect of certain inter corporate dividends. Section 80M of the Income Tax Act- Inter corporate dividends

Income tax section Section 80M provides deduction in respect of inter-corporate dividends. The following section shall be inserted with effect from the 1st day of April, 2021, namely:— “80M. Deduction in respect of certain inter-corporate dividends.—(1) Where the gross total income of a domestic company in any previous year includes any income by way of dividends from any other …

Inter corporate Tax planning on dividend income in India. Deduction in respect of certain inter corporate dividends. Section 80M of the Income Tax Act- Inter corporate dividends Read More »

How to save Income tax

ITR भरने की आखिरी तारीख बस खत्म होने वाली है, अगर आपने अबतक अपना रिटर्न दाखिल नहीं किया है तो 31 दिसंबर के बाद आपको पेनल्टी देनी पड़ सकती है. लेकिन हम आपको यहां पर ITR के बारे में नहीं बल्कि टैक्स बचत को लेकर बताने जा रहे हैं, जिससे आप ज्यादा से ज्यादा टैक्स …

How to save Income tax Read More »

व्यक्ति (Person) [Sec. 2 (31)]: आयकर कानून के तहत परिभाषा

व्यक्ति में निम्नलिखित शामिल हैं:(i) एक व्यक्ति।(ii) एक हिंदू अविभाजित परिवार (एचयूएफ)।(iii) एक कंपनी।(iv) एक फर्म।(v) व्यक्तियों का संघ (एओपी) या व्यक्तियों का निकाय (बीओआई), चाहे निगमित हो या नहीं।(vi) एक स्थानीय प्राधिकरण; और(vii) प्रत्येक कृत्रिम न्यायिक व्यक्ति जो पूर्ववर्ती किसी भी श्रेणी में नहीं आता है। अब हम उपरोक्त सभी शीर्षों पर विस्तार से …

व्यक्ति (Person) [Sec. 2 (31)]: आयकर कानून के तहत परिभाषा Read More »

Person [Sec. 2 (31)]: Definition and type of person under Income Tax law

The person includes the following: an Individual. a Hindu Undivided Family (HUF). a Company. a Firm. an Association of Persons (AOP) or a Body of Individuals (BOI), whether incorporated or not. a Local authority; & every artificial juridical person not falling within any of the preceding categories. Now we are discussing in detail all above …

Person [Sec. 2 (31)]: Definition and type of person under Income Tax law Read More »

निर्धारिती (Assessee) क्या है? आयकर अधिनियम की धारा 2(7) के तहत एक निर्धारिती (Assessee) क्या है?

i) एक व्यक्ति जिसके द्वारा आयकर अधिनियम के तहत कोई कर या कोई अन्य राशि देय है। ii) प्रत्येक व्यक्ति जिसके संबंध में इस अधिनियम के तहत कोई कार्यवाही उसकी आय या हानि या उसके कारण वापसी की राशि के आकलन के लिए की गई है। iii) एक व्यक्ति जो किसी अन्य व्यक्ति की आय …

निर्धारिती (Assessee) क्या है? आयकर अधिनियम की धारा 2(7) के तहत एक निर्धारिती (Assessee) क्या है? Read More »